वर्चुअल रियलिटी क्या है | Virtual Reality in hindi

Virtual reality banner

वर्चुअल रियलिटी अर्थात आभासी |

ये कंप्यूटर साइंस द्वारा तैयार की गई टेक्नोलॉजी में एक बेहतरीन टेक्नोलॉजी है, वर्चुअल रियलिटी एक ऐसा अनुभव होता है जो हक़ीक़त लगता है पर हक़ीक़त में वो होता नहीं, उसके होने आभास महसूस किया जाता है |

वर्चुअल रियलिटी को संक्षिप्त रूप से इस तरह परिभाषित कर सकते है  – वर्चुअल रियलिटी एक ऐसा कांसेप्ट है जो हमे किसी घटना का वास्तविकता मे होना ये आभास कराता है लेकिन वास्तव मे ऐसा नही होता है कि ये जो कुछ भी घट रहा है, वह एक्चुअली मे क्रियान्वित हो रहा है।

virtual reality in hindi

उदहारण के तौर पर अगर आप अंतरिक्ष में घूमने का अनुभव करना चाहते है तो आपको वैसा तापमान, वैसा माहौल प्रदान किया जाता है | ये एक ऐसी टेक्नोलॉजी है जो वर्चुअल इमेजेज, वर्चुअल साउंड और दूसरी कई वर्चुअल्ली चीजें दिखाने के लिए काम आती है लेकिन जब आप इसको उसे करते है तो आपको ऐसा फील होता है की ये बिलकुल ओरिजिनल है और सच मे आपके सामने कुछ हो रहा है | इसको उसे करने पर आपको लगने लगता है की आप उसी एनवायरमेंट में हो। वर्चुअल रिएलिटी हेडसेट को पहनने के बाद अगर आप किसी ३६० डिग्री वीडियो को देखते है तो आप ऊपर नीचे आगे पीछे घूम कर भी देख सकते है |

वर्चुअल रियलिटी कैसे काम करती है

वर्चुअल रियलिटी को महसूस करने के लिए एक गैजेट जिसे वर्चुअल रियलिटी हेडसेट कहा जाता है उसे पहनना होता है, जो की प्लास्टिक या फाइबर का होता है | इसमें देखने के लिए लैंस और सुनने के लिए हैडफ़ोन लगा होता है | इसमें बने वीडियो खासतौर पर ३६० डिग्री फिल्म सूट की जाती है ताकि चारो और का नजारा देखा जा सके | वर्चुअल रिएलिटी हेडसेट के कुछ उदहारण है सैमसंग का गियर या एचटीसी का वाइब। इसमें दो तरीके से वीडियो प्ले की जा सकती है |

वी आर हेडसेट

इसका इस्तेमाल गेमिंग या लाइव इवेंट को देखने के लिए किया जाता है जिसे वी आर हेडसेट की स्क्रीन पर देखना होता है बस इसके लिए आपको किसी लोकल नेटवर्क़ के जरिये वीडियो भेजना होता है |

VR Headsets

मोबाइल स्क्रीन

ऑनलाइन आपको बहुत सी ३६० डिग्री सपोर्ट करने वाली फिल्मे मिल जाएंगी जिसे मोबाइल में डाउनलोड करने के बाद मोबाइल को अपने वर्चुअल रियलिटी हेडसेट के सामने रखना होता है, वी आर हेडसेट इस तरह डिज़ाइन किये जाते है ताकि वो मोबाइल फ़ोन के फीचर को अच्छे से समझ सके फिर आपके मोबाइल में लगा गायरोस्कोप सेंसर ये बताता है आप किस दिशा में कितने डिग्री घूम रहे है | उसी के अनुसार वी अरे हेडसेट आपको फिल्म दिखाता है ये आपको जरा भी अनुभव नहीं होने देता की आप फिल्म देख रहे है बल्कि लगता है जो हो रहा है आपके आँखों के सामने घटित हो रहा है |

इतिहास

इसकी शुरुवात १९८० के दशक में अमेरिका के जरुन  लेनिअर नमक व्यक्ति ने की थी | इस दुनिया को लोगो के सामने लेन में उनका बहुत बड़ा योगदान है, उन्हें वर्चुअल रियलिटी का जनक भी कहा जाता है | १९८५ में उन्होंने वी पी एल टेक्नोलॉजी की स्थापना की जिसने बहुत सरे गैजेट बनाए जैसे डाटा ग्लव्स |cतब लोगो को इनकी खासियत के बारे में मालूम नहीं था पर जैसे जैसे ये लोगो के सामने आए पूरी दुनिया इनकी खासियत की दीवानी हो गई |  २०१० तक वर्चुअल रियलिटी हेडसेट पूरी दुनिया में फेमस हो गया | आपको किसी भी इ- कॉमर्स साइट पर ये आसानी से मिल जाएगा, पर इसे सपोर्ट करने वाली ३६० डिग्री फिल्म की मार्किट में कमी है जिस तरह से ये लोगो के बीच पॉपुलर हो रहा है जल्द ही ये मार्किट में आसानी से उपलब्ध होगा |

VR Headsets wearable

वर्चुअल रियलिटी हेडसेट के प्रकार

  • गूगल कार्डबोर्ड – यह कार्डबोर्ड से बना एक डिब्बा होता है जिसमे मोबाइल को फिट करना होता है, इसे हाथ से पकड़ के आँखों से दूरबीन की तरह देखना होता है | यह १५० से ३०० की रेंज में किसी भी इ- कॉमर्स साइट पर आसानी से मिल जाता है |
  • प्लास्टिक वी आर हेडसेट – यह १५०० से ३००० की रेंज तक आने वाला प्लास्टिक से बना वर्चुअल हेडसेट होता है, जिसमे आगे लैंस लगा होता है और मोबाइल से कनेक्ट करने के लिए स्पेस होता है जो वर्चुअल रियलिटी का मज़ा देता है यह आसानी से अमेज़न और फ्लिपकार्ट में उपलब्ध है |
  • गियर वी आर – अगर आप बढ़िया क्वालिटी के वी अरे उपयोगी करना चाहते है, तो गियर वी आर ही सेलेक्ट करना चाहिए | यह अफोर्डेबल होने के साथ साथ इसमें आपको आपकी जरुरत का हर चीज मिल जाएगा इसे घंटो पहनने के बाद भी आपको तकलीफ नहीं होगी क्यूंकि इसकी पकड़ अच्छी होने के साथ-साथ इसमें उच्च क्वालिटी के लांस भी है | यह ८००० से १३००० की रेंज में मिल जाता है, जिसे कुछ जानी मानी कम्पनिया डिजाइन करती है जैसे एच टी सी, सोनी |
  • ओक्युलस रिफ्ट – यह अब तक का सबसे महंगा प्रीमियम क्वालिटी वी आर हेडसेट है | इसमें आपको बेस्ट क्वालिटी लेन्स के साथ बेस्ट क्वालिटी साउंड भी मिलता है | इसकी कीमत २०००० से इसकी ४०००० तक है | इस कंपनी की शुरुवात २०१२ में हुई और २०१६ आते तक ये बहुत प्रचलित हो गया, इसकी सफलता से प्रेरित हो २०१७ में फेसबुक ने इसे खरीद लिया |

 

 

Leave a Reply