संजय दत्त के जीवन से जुडी अनोखी कहानियाँ

संजय दत्त के जीवन पे बानी फिल्म संजू आज भारत के साथ साथ कई देशो में रिलीज़ हो रही है, हिरानी के निर्देशन में बानी इस फिल्म में संजय के जीवन जुड़े दो महत्वपूर्ण किस्सों पर जोर दिया है पहला उनकी ड्रग्स लाइफ और दूसरा मुंबई केस | वैसे तो संजय दत्त का संपूर्ण जीवन ही कंट्रोवर्सी से घिरा हुआ है पर ढाई घंटे की फिल्म में ५० साल को कवर कर पाना मुश्किल है इसलिए सिर्फ इन दो महत्वपूर्ण मुद्दों को ही दिखाया गया है या ये कहे फिल्म के सहारे उनकी छवि को सुधारने का प्रयास किया गया है|

sanju

  • पृष्ठभूमि- संजय दत्त का जन्म मशहूर फिल्म एक्टर्स सुनील दत्त और नरगिस के घर हुआ था। उनके पिता सुनील दत्त और उनकी मां नरगिस ने हिन्दी फिल्म इंडस्ट्रªी में कई सुपरहिट फिल्में दी हैं।

Family_photo

  • शादी- उनकी पहली शादी रिचा शर्मा से हुई थी लेकिन ब्रेन ट्यूमर होने की वजह से 1996 में उनका देहांत हो गया। इस शादी से उनकी एक लड़की हुई जिसका नाम त्रिशाला है और वह अपने ग्रैंड पैरेंट्स के साथ यू.एस. में रह रही है। इसके बाद संजय ने से शादी रचाई लेकिन उनसे उनका तलाक हो गया। फिर 2008 में गोवा में संजय ने मान्यता से शादी कर ली और 21 अक्टूबर 2010 को वे जुड़वा बच्चों के पिता बन गए। लड़के का नाम शहरान और लड़की का नाम इकरा है।

sanjay-dutt-his-family

  • करियर- संजय दत्त का करियर बहुत ही उतार-चढ़ाव से भरा हुआ रहा है। 1993 में हुए मुंबई बम ब्लास्ट के कारण उन्हें कई बार जेल के चक्कर काटने पड़े। इस वजह से उनको अपने फिल्मी करियर में भी काफी दिक्कतों का सामना करना पड़ा। बाल कलाकार के रूप में संजय पहली बार फिल्म ‘रेशमा और शेरा’ में दिखाई दिए लेकिन मुख्य अभिनेता के तौर पर उनकी पहली फिल्म ‘राॅकी’ थी जो कि उस समय की सुपरहिट फिल्म रही। इसके बाद उन्होंने कई सुपरहिट फिल्में दीं और लगभग हर अच्छे अभिनेता के साथ काम किया लेकिन फिल्म ‘खलनायक’ में निभाया गया उनका ‘बल्लू’ का किरदार आज भी सभी के ज़ेहन में ताजा है। फिल्म ‘वास्तव’ में उनके अभिनय को काफी सराहा गया और इसके लिए उन्हें बेस्ट एक्टर का फिल्मफेयर अवार्ड भी मिला।

आज बात करते है उनके जीवन से जुडी कुछ महत्वपूर्ण घटनाओ के बारे में-

  • संजय दत्त बचपन से ही जिद्दी थे तथा जिद पूरी न होने पर सड़को पर लोट जाया करते थे |
  • स्कूल के दिनों में उन्हें बिगड़ने से बचने के लिए उनके माता पिता ने उन्हें बोर्डिंग स्कूल भेज दिया था पर यहाँ भी वो एक साथ १५ लड़कियों को लव लेटर्स लिखा करते थे इसी उम्मीद में की कोई एक तो उनके लेटर का जवाब देगी |
  • पिता सुनील दत्त के पास जब भी कोई प्रोड्यूसर आते ताे संजय उनकी फेंकी हुई सिगरेट पीते थे।उन्हें रंगे हाथों सुनील दत्त ने पकड़ लिया था। बाद में सुनील ने धूप में खड़े होकर सिगरेट पीने की सजा दी थी।

  • छोटे संजय दत्त को बिगड़ने से बचाने के लिए बोर्डिंग स्कूल में भेजा गया। जहां वे 11 साल रहे। इस दौरान उनके हिंदी टीचर डाॅ. गुप्ता उन्हें स्कूल के नाटकों में नौकर का रोल देते थे। जिनमें अक्सर उन्हें रामू, धनिया जैसे नाम वाले नौकरों का रोल दिया जाता था।
  • फिल्म में संजय दत्त ने ३५० गर्लफ्रेंड्स होने का जिक्र किया गया है ऋचा शर्मा भी उनमे से एक थी जो संजय दत्त की पहली पत्नी भी थी संजय ऋचा के दीवाने थे और सन १९८७ में दोनों ने शादी कर ली शादी के डेढ़ साल बाद पता चला ऋचा को ब्रेन ट्यूमर है जिसके इलाज के लिए उन्हें अमेरिका जाना पड़ा और शूटिंग की वजह से संजय अमेरिका नहीं जा पाए कुछ समय बाद संजय और माधुरी के अफेयर की खबरे आने लगी जिसके चलते ऋचा अमेरिका से वापस लौट आई पर संजय पत्नी और बेटी त्रिसाला से मिलने एयरपोर्ट तक नहीं गए | संजय दत्त से तवज्जो न मिलने और तबियत बिगड़ने की वजह से ऋचा वापस अमेरिका लौट गई और ऋचा ने 10 दिसंबर, 1996 को दुनिया को अलविदा कह दिया।

sanjay-dutt-richa-sharma_

  • 1991 में ‘साजन’ की शूटिंग के दौरान संजय दत्त और माधुरी दीक्षित करीब आए। दोनों शादी भी करना चाहते थे। हालांकि, माधुरी के पिता इस रिश्ते के खिलाफ थे, क्योंकि संजय उस समय शादीशुदा थे और उनकी एक बेटी भी थे। कहा जाता है कि 1993 के बॉम्बे बम ब्लास्ट में जब संजय का नाम आया, तब माधुरी खुद उनसे अलग हो गईं थी। अलग होने के बाद दोनों ने कोई भी फिल्म साथ नहीं की। अब दोनों करन जौहर की फिल्म ‘कलंक’ में साथ नजर आने वाले हैं।

madhuri-sanjay

  • संजय को ड्रग्स की लत भी थी फिल्म में भी दिखाया गया है ट्रेलर में वो कहते नजर आ रहे है पहली बार ड्रग्स तब ली जब पापा से गुस्सा थे,दूसरी बार तब जब माँ की मौत हुई और तीसरी बार उन्हें इसकी बुरी लत लग चुकी थी संजय के मुताबिक एक वक्त उनके शरीर में ड्रग्स का इतना ओवरडोज हो चुका था कि उन्हें अगर मच्छर काट लेता था तो मर जाता था।
  • मुम्बई में १९९३ में श्रृंखलाबद्ध बम विस्फोट हुए। दत्त बॉलीवुड के उन कुछ लोगों में से एक थे जिनपर अप्रैल १९९३ के बम विस्फोटों में शामील होने का आरोप लगा।दिनांक ३१ जुलाई २००७ को टाडा अदालत ने संजय दत्त को अवैध हथियार रखने का आरोपी पाया और मुम्बई विस्फोटों में शामील होने के आरोपों से बरी कर दिया दत्त पुनः ऑर्थर जेल में आ गये और शीघ्र ही उन्हें पुणे की यरवदा केंद्रीय कारागार में भेज दिया गया।संजय दत्त को यरवदा केंद्रीय कारागार में रखा गया था इस कारण इन्हें २५ फ़रवरी २०१६ को जेल से रिहाई कर दिया गया। संजय दत्त पिछले ४२ महीनों से पुणे की यरवदा केंद्रीय कारागार में  थे।

SanjayDutt-Reuters

  • संजय दत्त अपनी शदी के सुपरस्टार होने के साथ साथ एक बेहतरीन डायरेक्टर एक्टर और पॉलिटिशियन सुनील दत्त और नरगिस के बेटे भी थे उन्होंने अपनी जिंदगी का वो दौर भी देखा है जब वो दुबई के सबसे बड़े होटल में रुके है और वो दौर भी जब अमेरिका के सड़को पे उन्हें भीख मांगनी पड़ी |
  • एक वक़्त था जब संजय दत्त का अपनी बहनो के साथ मनमुटाव था वजह थी संजय की मान्यता से शादी और संजय का समाजवादी पार्टी में शामिल होना जबकि उनका पूरा परिवार कांग्रेस समर्थक रहा है बाद में संजय ने खुद स्वीकार किया समाजवादी पार्टी ज्वाइन करना उनके जीवन की सबसे बड़ी भूल थी क्योंकि कांग्रेस उनके खून में है |

  • मुंबई बम ब्लास्ट में आरोपी संजय को रिहा करवाने के लिए उनके पिता ने एड़ी चोटी का जोर लगा दिया कांग्रेस से समर्थन न मिल पाने की वजह से उन्होंने बालठाकरे जी से मदद मांगी तब जाकर कहीं संजय को जमानत मिली जमानत के बाद जब संजय ठाकरे से मिलने पहुंचे तो उन्होंने उन्हें फटकार लगाते हुए पिता की बात सुनने की नसीहत दी इसलिए बाल साहब के रहते हुए शिवसेना ने कभी संजय का विरोध नहीं किया किन्तु ठाकरे की मृत्यु के बाद संजय के दया याचिका के विरोध में अर्जी दायर की |

balasahab

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *