२२ मार्च-विश्व जल दिवस

हर वर्ष २२ मार्च को विश्व जल दिवस के रूप में मनाया जाता है वर्ष १९३३ से विश्व भर में मनाये जा रहे इस दिन को आज के समय में भी काफी उत्साह के साथ मनाया जाता है। देश भर में विश्व जल दिवस को लेकर अभी से तैयारियां शुरु कर दी गयी है।हर वर्ष किसी थीम को ध्यान में रखते हुए आयोजन किए जाते है. ठीक इसी प्रकार वर्ष २०१९ की जल दिवस की थीम “किसी को पीछे नही छोड़ना (लीवींग नो वन बीहांइड)” है।वर्ष १९९३ में संयुक्त राष्ट्र की सामान्य सभा के द्वारा इस दिन को एक वार्षिक कार्यक्रम के रुप में मनाने का निर्णय किया गया। लोगों के बीच जल का महत्व, आवश्यकता और संरक्षण के बारे में जागरुकता बढ़ाने के लिये हर वर्ष २२ मार्च को विश्व जल दिवस के रुप में मनाने के लिये इस अभियान की घोषणा की गयी थी।

              जैसा की हम सभी जानते है की जल ही जीवन है, बिना जल के जीवन की कल्पना भी नहीं की जा सकती किन्तु जिस प्रकार प्रकृति के साथ छेड़छाड़ की जा रही है वो दिन दूर नहीं की हमारे पास पीने को स्वच्छ जल भी उपलभ्द नहीं हो पाएगा आज भी कई देश जल संकट से जूझ रहे है इसलिए वक़्त रहते अगर कोई ठोस कदम नहीं उठाए गए तो जीवन खतरे में पड़ सकता है इसी बात को ध्यान में रखते हुए विश्व जल दिवस की शुरुवात की गई  यह अभियान यूएन अनुशंसा को लागू करने के साथ ही वैश्विक जल संरक्षण के वास्तविक क्रियाकलापों को प्रोत्साहन देने के लिये सदस्य राष्ट्र सहित संयुक्त राष्ट्र द्वारा मनाया जाता हैं।

इस अभियान को प्रति वर्ष यूएन एजेंसी की एक इकाई के द्वारा विशेष तौर से बढ़ावा दिया जाता है जिसमें लोगों को जल मुद्दों के बारे में सुनने व समझाने के लिये प्रोत्साहित करने के साथ ही विश्व जल दिवस के लिये अंतरराष्ट्रीय गतिविधियों का समायोजन शामिल है। इस कार्यक्रम की शुरुआत से ही विश्व जल दिवस पर वैश्विक संदेश फैलाने के लिये थीम (विषय) का चुनाव करने के साथ ही विश्व जल दिवस को मनाने के लिये यूएन जल उत्तरदायी होता है।

         जल की संरक्षण के प्रति लोगो को जागरूक करना ही विश्व जल दिवस का मुख्य उद्देश्य है, आज के दिन लोगो को जागरूक करने के लिए कई तरह के कार्यक्रम आयोजित किए जाते है चित्रों, विज्ञापनों के माध्यम से लोगो को जल का महत्व और संरक्षण के बारे में जागरूक किया जाता है रंगमंच या नुक्कड़ नाटकों और संगीतात्मक गतिविधियों के साथ इस दिवस पे चर्चा की जाती है ताकि लोग जल के प्रति अपने कर्तव्यों के प्रति जागरूक हो सके नीले रंग की जल की बूँद की आकृति विश्व जल दिवस उत्सव का मुख्य चिन्ह है।

विश्व जल दिवस

विश्व जल दिवस का थीम

    वर्ष १९९३ के विश्व जल दिवस उत्सव का थीम था “शहर के लिये जल”।

    वर्ष १९९४ के विश्व जल दिवस उत्सव का थीम था “हमारे जल संसाधनों का ध्यान रखना हर एक का कार्य है”।

    वर्ष १९९५ के विश्व जल दिवस उत्सव का थीम था “महिला और जल”।

    वर्ष १९९६ के विश्व जल दिवस उत्सव का थीम था “प्यासे शहर के लिये पानी”।

    वर्ष १९९७ के विश्व जल दिवस उत्सव का थीम था “विश्व का जल: क्या पर्याप्त है”।

    वर्ष १९९८ के विश्व जल दिवस उत्सव का थीम था “भूमी जल- अदृश्य संसाधन”।

    वर्ष १९९९ के विश्व जल दिवस उत्सव का थीम था “हर कोई प्रवाह की ओर जी रहा है”।

    वर्ष २००० के विश्व जल दिवस उत्सव का थीम था “21वीं सदी के लिये पानी”।

    वर्ष २००१ के विश्व जल दिवस उत्सव का थीम था “स्वास्थ के लिये जल”।

    वर्ष २००२ के विश्व जल दिवस उत्सव का थीम था “विकास के लिये जल”।

    वर्ष २००३ के विश्व जल दिवस उत्सव का थीम था “भविष्य के लिये जल”।

    वर्ष २००४ के विश्व जल दिवस उत्सव का थीम था “जल और आपदा”।

    वर्ष २००५ के विश्व जल दिवस उत्सव का थीम था “2005-2015 जीवन के लिये पानी”।

    वर्ष २००६ के विश्व जल दिवस उत्सव का थीम था “जल और संस्कृति”।

    वर्ष २००७ के विश्व जल दिवस उत्सव का थीम था “जल दुर्लभता के साथ मुंडेर”

    वर्ष २००८ के विश्व जल दिवस उत्सव का थीम था “स्वच्छता”।

    वर्ष २००९ के विश्व जल दिवस उत्सव का थीम था “जल के पार”।

    वर्ष २०१० के विश्व जल दिवस उत्सव का थीम था “स्वस्थ विश्व के लिये स्वच्छ जल”।

    वर्ष २०११ के विश्व जल दिवस उत्सव का थीम था “शहर के लिये जल: शहरी चुनौती के लिये प्रतिक्रिया”।

    :वर्ष २०१२ के विश्व जल दिवस उत्सव का थीम था “जल और खाद्य सुरक्षा”।

    वर्ष २०१३ के विश्व जल दिवस उत्सव का थीम था “जल सहयोग”।

    वर्ष २०१४ के विश्व जल दिवस उत्सव का थीम था “जल और ऊर्जा”।

    वर्ष २०१५ के विश्व जल दिवस उत्सव का थीम था “जल और दीर्घकालिक विकास”।

    वर्ष २०१६ के विश्व जल दिवस उत्सव के लिए विषय था “जल और नौकरियाँ”

    वर्ष २०१७ के विश्व जल दिवस उत्सव के लिए विषय था “अपशिष्ट जल”।

    वर्ष २०१८ के विश्व जल दिवस उत्सव के लिए विषय था “जल के लिए प्रकृति के आधार पर समाधान”।

    वर्ष २०१९  के विश्व जल दिवस उत्सव के लिए विषय “किसी को पीछे नही छोड़ना (लीवींग नो वन बीहांइड)” है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *