वायु प्रदुषण

Spread the love
Follow us

बढ़ता वायु प्रदुषण विश्व भर के लिए चिंता का विषय बना हुआ है हर दिन के साथ हालात और ज्यादा बदत्तर हुए जा रहे है हाल ही में एक रिसर्च ने बताया की ओजोन परत पृथ्वी के अस्तित्व को बनाए रखने के लिए खुद प्रयास कर रही पर यहाँ रहने वाले इंसान अब भी इसे लेकर गंभीर नहीं दिखाई देते जैसे जैसे टेक्नोलॉजी अपने आप को विकसित कर रही है पृथ्वी के अस्तित्व पे खतरा मंडराना शुरू हो गया है विश्व की बात छोडे भारत के ही कई महानगरों की स्थिति गंभीर चिंता का विषय है |

india-air-pollution

अब आप दिल्ली में फैले स्मोग को ही ले लीजिये दिल्ली और एनसीआर में वायु प्रदूषण से बुरी तरह प्रभावित होने के कारण ३५% निवासियों का कहना है कि केंद्रीय और राज्य सरकारों ने प्रदूषण के खिलाफ कार्य करने की क्षमता छोड़ दी है परिणामस्वरूप वहाँ के नागरिक दिल्ली एनसीआर से बाहर निकलना चाहते हैं |

smog

हालिया सर्वेक्षण में वहाँ के नागरिको से वहाँ की स्थिति को जानने का प्रयास किया गया और चौकाने वाले परिणाम सामने आए १२% निवासियों का कहना है कि वे जीवित रहेंगे लेकिन प्रदूषण के स्तर अधिक होने पर अस्थायी रूप से दूर जाना चाहते हैं। ५७% निवासियों ने कहा कि प्रदूषण के कारण उन्हें स्वास्थ्य संबंधी समस्याओं का सामना करना पड़ा है कई चिकित्सा विशेषज्ञों ने इस क्षेत्र में निवासियों को इस क्षेत्र में वायु गुणवत्ता को खराब करने के स्वास्थ्य जोखिमों के बारे में चेतावनी दी है विशेष रूप से पीएम २.५ और पीएम १० कणों के हानिकारक प्रभाव जो श्वास के दौरान फेफड़ों में नुकसान पहुंचा सकते हैं। हालत ये है की लोग बिना मास्क के घर से बाहर निकलने में डर  रहे  है |

pollution-children

सर्वेक्षण में दिल्ली गुड़गांव नोएडा फरीदाबाद और गाजियाबाद में रहने वाले १२ से अधिक नागरिकों ने भाग लिया हालत की गंभीरता तो तब ही समझ आ गई थी जब दिल्ली में भारतीय टीम क्रिकेट मैच खेल रही थी और मास्क पहन के खेलने को मजबूर थी यहाँ तक कई खिलाड़ियों ने तो मैदान में आने तक से इंकार कर दिया था |

pollution

हालाँकि ये सिर्फ दिल्ली वालो के लिए चिंता का विषय नहीं अपितु पुरे मानव समाज के लिए प्रश्न है की आप अपने आपने वाली पीढ़ी को क्या देना चाहते है मास्क पहनने को मजबूर बचपन बीमारिया या एक स्वच्छ वातावरण चुनाव आपका अपना है |

Please follow and like us:
error