इंडिया के ये बाबा जिन्हे हुई सजा

हाल ही में इंडिया में एक बाबा को आजीवन कारावास की सजा सुनाई गई नाम है आसाराम बापू , इंडिया में शायद ही कोई ऐसा हो जो इन्हे ना जनता हो लाखो हिन्दुओ की आस्था जुडी हुई थी इनके साथ ये ऐसा पहली बार नहीं हुआ की किसी बाबा को सजा हुई हो और भी बहुत से नाम है जैसे राम रहीम बाबा रामपाल नित्यानंद |

1 आसाराम -सुरुवात करते है आसाराम से जिन्हे हाल ही में नाबालिक के दुष्कर्म का दोषी पाया गया, और आजीवन करावस की सजा सुनाई गई आसाराम एक ऐसा नाम है, जिससे लाखो हिन्दुओ की आस्था जुडी हुई है अपने आप को भगवान् का अवतार कहने वाला आसाराम दुष्कर्म का दोषी पाया गया साथ ही उसने पूरी कोशिश की लड़की को गलत साबित करने की उसे बदनाम करने की पर लड़की ने हिम्मत और बहादुरी केसाथ जेल की सलाखों के पीछे पहुंचाया |

asha

2 बाबा रामपाल ये नाम हरियाणा में बहुत फेमस है स्वयं को भगवान् बताने वाला रामपाल जेल में कैद है हरियाणा में जूनियर इंजीनियर के पद पर काम करने वाले रामपाल ने स्वामी रामदेवानंद के सानिध्य में आकर प्रवचन देना चालू कर दिए , हजारो लोगो ने उनकी बात मान कर कबीर पंथ अपनाना सुरु कर दिए बाद में यही रामपाल देशद्रोह का मुजरिम पाया गया और इसे जेल हो गई सन २००६ में इसे हत्या का भी दोषी पाया गया जिसके चलते आजतक जेल में है |

rampal

3 बाबा राम रहीम –  डेरा सच्चा सौदा के बाबा राम रहीम एक ऐसा नाम है जिसने कानून व्यवस्था को भी डरा दिआ था सिरसा के बाबा राम रहीम हाल ही में रेप के मामले में सजा पाए हैं जैसे ही उन्हें सजा सुनाई गई उनके समर्थको ने दंगे चालू कर दिए पर सरकार ने उनके मानसूबो पे पानी फेर के उन्हें जेल भेजने का फैसला किआ बाबा राम रहीम को उनके शिस्य के साथ २० साल की सजा सुनाई गई |

rr

 

4 नित्यानंदतमिलनाडु में जन्मे नित्यानंद के तमिलनाडु समेत आँध्रप्रदेश और कर्नाटक में कई आश्रम है साउथ में इन्हे कई माननें वाले है और ये १५०० साल पुराने शैव मैथ के उत्तराधिकारी भी थे पर तमिल एक्ट्रेस के साथ आई सेक्स सीडी लीक होने पर उन्हें हटाया गया था।नित्यानंद के खिलाफ रेप, धार्मिक भावनाएं भड़काने, धोखाधड़ी, आपराधिक साजिश रचने के कई मामले दर्ज हो चुके हैं |

nityapjp

5 जयेन्द्र सरस्वती – कैंची कामकोटि पीठ के साठवे शंकरचार्य का भी विवादों से पुराना नाता है सितम्बर २००४ में में उन्हें कांचीपुरम के वरदराजपेरमल मंदिर के प्रबंधक शंकरमन की हत्या का दोषी पाया गया सं २००५ में एक अन्य व्यक्ति में उनके खिलाफ हत्या की कोशिश का केस दर्ज करवाया उसका आरोप था की उसने कांचीपुरम के मंदिर में गायब हुए सोने के बारे में जानना चाहा इसलिए जयेन्द्र सरस्वती ने उसे मारने की कोशिश की |

js

Leave a Reply